ईमानदारी की जीत-Kid Story in Hindi

  ” सोनू, उठ जा। स्कूल में देरी से पहुंचा तो मास्टरजी से डांट खानी पड़ेगी। ” डांट का नाम सुनते हो सोनू ने फ़ौरन बिस्तर छोड़ दिया और स्कूल जाने के तैयारी में लग गया। उधर माँ ने गरमा गर्म परांठा और दूध उसके आगे रख दिया, जिसे उसने किताबें सँभालते हुए […]

» Read more

लाटरी का जादू

   गुप्ता जी रिटायर क्या हुए, उनकी तो जैसे जिंदगी ही उलट-पुलट हो गयी।  एक प्राइवेट कंपनी में केशियर के पद पर लगभग 35 साल काम किया लेकिन सेहत ख़राब रहने की वजह से नौकरी छोड़नी पड़ी। जो महीने की बंधी हुई पगार आती थी वह बंद हो गयी। प्रोविडेंट फण्ड […]

» Read more

अंधेर नगरी – चौपट राजा 

यह उस समय की बात है जब राजा का कहा हर शब्द न्याय होता था।  एक राज्य था जो मूर्खता के साथ-साथ मंद बुद्धि के लिए प्रसिद्ध था। इस वजह से प्रजा के साथ उसके अपने मंत्री तक उसके सामने कांपते थे। न जाने कब किसी मंत्री से कोई गलती हो जाए और राजा उसे […]

» Read more

गाँव वालो ने कैसे सबक सिखाया

नेक राम और उसकी पत्नी रुक्मणि एक छोटे से गांव में रहते थे। अपने खेत में अनाज की फसल लगाते और जब फसल पक जाती तो उसे मंडी में बेच कर अपना पालन पोषण करते थे।  फसल लगाने से पहले खेत की खुदाई करनी पड़ती थी जो एक बहुत ही […]

» Read more

मिठाई चोर 

घर में मेहमान आने वाले थे। सुधा सुबह से ही तैयारी में जुटी थी। कभी किचन में खाना बनाती तो कभी घर की साफ़-सफाई में लग जाती।  उनके पति दिनेश बाजार से खूब सारी मिठाई ले आये थे। मिठाईओं को कमरे में संभाल कर रखने के बाद उन्होंने अपने दोनों बच्चों, […]

» Read more

कौन सी सेठानी-Hindi Story for Kids

अपने को गांव का सबसे अमीर आदमी समझने लगा था सेठ सुरेश चंद। जब देखो अपनी दौलत का दिखावा करना उसका शोक हो गया था।  कोई उसे मिलने आता तो उसे बैठाने से पहले बता देता ” यह सोफे मैंने लन्दन से मंगवाया है।” चाय पिलाते हुए बोल देता ” यह […]

» Read more

स्कूल का हीरो

प्रिंसिपल साहब ने चपरासी से कहा ” फ़ौरन जाओ और सुधीर को बुला लाओ। अगर टीचर कुछ कहे तो कह देना मैंने बुलाया है। ”  असल में उन्हें अभी पता चला था कि शिक्षा विभाग ने इस साल राजकीय खेल प्रतियोगता उनके स्कूल में करने का फैसला लिया था। स्कूल के […]

» Read more

सोने की चेन -Hindi Story for Kids

सुधाकर अपने पिता, भाई सुरेश और भाभी कंचन के साथ रहता था। माँ का देहांत कुछ साल पहले हो चूका था और पिता रिटायर थे। भाई एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता था। भाभी घर पर ही रहती थी और घर का सब काम खुद ही करती थी। सब खुश ही थे […]

» Read more

नकलची कौवा-Hindi Stories for Kids

खाने की तलाश में कौवा दिन भर इधर-उधर भटकता रहता।  पेड़ से गिरे फल उठा कर खाना तो बस पेट भरना ही था। लेकिन उसके मन की भूख शांत न होती। उसे तो चाहिए था किसी छोटे जानवर का गोश्त।  हफ़्तों भटकने के बाद कभी उसे किसी मरे हुए जानवर का गोश्त […]

» Read more

चूहे और शेर की दोस्ती

घने जंगल में भूख से पीड़ित एक चूहा मारा-मारा फिर रहा था। कितनी हंसी आती है यह सुन कर कि चूहे के पेट में भी चूहे दौड़ रहे थे।  तभी उसे एक गुफा की तरफ से मांस की गंध आयी। बस फिर क्या था, लपककर गुफा में पहुँच गया।  वहां पहुंचने पर उसने […]

» Read more
1 2 3 5