तीसरा वर

बारिश से बचने के लिए गीता लगभग दौड़ते हुए अपने घर पहुँची। घर में प्रवेश करते ही सामने बैठे अपने पति कन्हैया पर बरस पड़ी।  ” हे भगवान, कैसे आदमी से मेरी शादी करवा दी जो मुझे एक छाता तक खरीद कर नहीं दे सकता।”  और न जाने कितनी बातें […]

» Read more

अनोखी प्रतियोगता-Unique Competition

इस साल गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल होने के लिए स्कूल को अपने छात्रों की एक टुकड़ी भेजनी थी। इस टुकड़ी के लिए छात्रों का चयन और इस परेड को सही ढंग से संचालित करने की लिए प्रिंसिपल साहब ने दो अध्यापक भी नियुक्त किए थे। रोज़ एक घंटे का पीरियड इस मार्च की […]

» Read more

कंजूस मक्खीचूस -Miser Farmer

गांव का एक किसान बहुत धनी था। खेत खलिहान से कमाई बहुत अच्छी करता था। मगर जब कहीं पैसे खर्च करने की बात होती तो अपनी गरीबी का रोना रो देता। यहाँ तक कि उसके घर वाले भी उससे परेशान थे। अच्छा खाना, अच्छा पहनना, कहीं दूसरे शहर घूमने या किसी मेले […]

» Read more

मूर्तिकार – Sculptor

नदी किनारे बसे छोटे से गाँव में एक मूर्तिकार अपने परिवार के साथ रहता था। उसके परिवार में थी उसकी पत्नी और एक प्यारी सी बिटिया। दिन भर मूर्तियां बनाता और शाम को नदी किनारे टहलते हुए मीलों दूर निकल जाता।  ठंडी ठंडी हवा के झोंके और चारों तरफ फैली हरियाली […]

» Read more

गरीब लड़की की उदारता-Kid Story

  एक गाँव में एक साहूकार अपने परिवार के साथ रहता था। परिवार में उसकी पत्नी, एक बेटी और एक बेटा थे। शानदार बंगला, नौकर-चाकर, गाड़ियाँ और सब शानो-शौकत का सामान था उसके पास।    गरीब लोगों को बहुत ज्यादा सूद पर कर्जा देना उसका धंदा था। अक्सर लोग तंगी […]

» Read more

गरीब किसान की महानता

हम चारों दोस्त जंगल में रास्ता भटक चुके थे। इसका एहसास हमें तब हुआ जब घंटा भर तेज चलने के बाद फिर से हमें वही छोटा सा झरना दिखाई दिया।  रात होने को थी और दूर दूर तक कोई इंसान या आबादी वाला इलाका नहीं था। डर, घबराहट तो थी ही लेकिन साथ में भूख […]

» Read more

गर्मी की छुट्टियाँ – Summer Vacations

ये तो कमाल हो गया। खाने की टेबल पर बैठे ही थे कि पापा का धमाल हो गया। ना जाने आज ऑफिस में उन्हें तरक्की मिली थी या बोनस मगर हम दोनों भाई बहनो की तो निकल पड़ी थी।  हर साल हम अपनी गर्मी की छुट्टियां नानी के घर बिताते थे। दिल्ली […]

» Read more

साहस की जीत

जँगल के सारे छोटे जानवर शेर से परेशान थे। अपने को उनका राजा कहने वाला शेर सब पर अपना रोब दिखता। जब भी भूख लगती किसी ना किसी जानवर को मार कर खा जाता।  सारे जानवरों ने एक दिन अपनी सभा बुलाई। उस सभा में सबने अपने साथ बीती दुखद घटना को भी […]

» Read more

कंजूस पति-पत्नी

एक शहर में बहुत ही कंजूस पति-पत्नी रहते थे। कंजूस इतने कि हर रात खाने के वक़्त किसी न किसी दोस्त या रिश्तेदार के घर पहुँच जाते। औपचारिता दिखाते हुए पूछे जाने पर कि क्या वह दोनों भोजन करेंगे,तो झट से  उनके साथ  खाने पर बैठ जाते।  अपनी छुट्टियां मनाने […]

» Read more

असली दोस्त की पहचान

जैसे जैसे दोनों दोस्त आगे बढ़ते जा रहे थे उन्हें महसूस हो रहा था कि जंगल और भी ज्यादा घाना हो रहा था। मगर करते क्या, दोनों उस घने जंगल में अपना रास्ता भटक गए थे। जंगल से बाहर निकलने का मार्ग दिख ही नहीं रहा था।  कुछ कदम और […]

» Read more
1 2 3