गणतंत्र दिवस

२६ जनवरी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ   गणतंत्र दिवस हर साल २६ जनवरी को बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। नई दिल्ली के राजपथ पर इस समारोह का मुख्या आकर्षण होता है। यहाँ हमारे देश के राष्ट्रपति जी परेड की सलामी लेते हैं। इस दिन देश के उपराष्ट्रपति जी, प्रधान मंत्री जी और […]

» Read more

बानी चिड़िया का प्रतिशोध-Hindi Story for Kids

घने जंगल में एक चिड़िया रहती थी। उस चिड़िया रानी का नाम था बानी।  एक विशाल पेड़ पर उसने अपना घोसला बनाया और अपने चिड़े के साथ मस्ती से रह रही थी।  कुछ दिन बाद चिड़िया बानी ने कुछ अंडे दिए। बानी की ख़ुशी का ठिकाना ना था। हर वक़्त वो […]

» Read more

कुत्ते की वफादारी – Short Hindi Story for Kids

रात को खाना खा कर सब सो गए। लेकिन ब्रूजो, जो की घर का कुत्ता था, अभी भी जाग रहा था।  चारों तरफ घाना अँधेरा और शान्ति थी। तभी ब्रूजो को खिड़की से किसी के अंदर कूदने की आवाज सुनाई पड़ी।  वो भाग कर खिड़की के पास गया तो देखा वहाँ एक चोर खड़ा […]

» Read more

क्रिसमस – Christmas 2017 – Hindi Story for Kids

क्रिसमस ईसाई धर्म का पालन करने वाले लोगों के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह पर्व हर वर्ष 25 दिसंबर को यीशु मसीह के जन्म के सम्मान में मनाया जाता है। लोगों का मानना है कि मानव जाति को बचाने के लिए यीशु मसीह को पृथ्वी पर भेजा गया […]

» Read more

बिल्ली और चूहे की दोस्ती

बिल्ली और चूहे की दोस्ती  बच्चों अजीब तो लगता है, पर एक बार बिल्ली और चूहे की दोस्ती हो गयी।      दोनों इतने गहरे दोस्त बन गए कि जहाँ भी जाते दोनों साथ ही जाते।      घूमना फिरना, कभी इस घर में तो कभी उस पेड़ पर चढ़ना। दोनों खूब […]

» Read more

Hindi Story-चालाक बनो-Hindi Kahani

चालाक बनो  गाँव के सारे लोग उससे परेशान थे। उसका नाम था जगदीश, जो एक बदमाश किसम का व्यक्ति था। क्योंकि, सब उससे डरते थे सो कोई भी उसके सामने बोलने की हिम्मत नहीं करता था।      जब भी गाँव में पंचायत या कोई और सभा होती तो सरपँच की कुर्सी […]

» Read more

मूर्ख को सलाह देना बेकार है – Moral Story for Kids

घने जंगल में एक फलों के पेड़ पर बहुत सी चिड़यों ने अपना घोसला बनाया हुआ था। सब चिड़या और उनके बच्चे उन्ही घोसलों में रहते थे।      सुबह शाम सब उन फलों को खाते और रात आराम से अपने अपने घोसले में जा सो जाते। सुबह होते ही फिर […]

» Read more
1 2 3 4