ईमानदार का जमानती कौन

राजस्थान के एक छोटे से गाँव में राम सहाय अपने परिवार सहित रहता था। एक बेटा घनश्याम, 2 बेटियां और पत्नी के इलावा उनके परिवार में और कोई नहीं था।  बाप बेटा दिन रात अपने खेत में मेहनत करके फसल उगाते और पक जाने पर उसे मंडी में लेजाकर बेच देते। […]

» Read more

लाटरी का जादू

   गुप्ता जी रिटायर क्या हुए, उनकी तो जैसे जिंदगी ही उलट-पुलट हो गयी।  एक प्राइवेट कंपनी में केशियर के पद पर लगभग 35 साल काम किया लेकिन सेहत ख़राब रहने की वजह से नौकरी छोड़नी पड़ी। जो महीने की बंधी हुई पगार आती थी वह बंद हो गयी। प्रोविडेंट फण्ड […]

» Read more

अंधेर नगरी – चौपट राजा 

यह उस समय की बात है जब राजा का कहा हर शब्द न्याय होता था।  एक राज्य था जो मूर्खता के साथ-साथ मंद बुद्धि के लिए प्रसिद्ध था। इस वजह से प्रजा के साथ उसके अपने मंत्री तक उसके सामने कांपते थे। न जाने कब किसी मंत्री से कोई गलती हो जाए और राजा उसे […]

» Read more

गाँव वालो ने कैसे सबक सिखाया

नेक राम और उसकी पत्नी रुक्मणि एक छोटे से गांव में रहते थे। अपने खेत में अनाज की फसल लगाते और जब फसल पक जाती तो उसे मंडी में बेच कर अपना पालन पोषण करते थे।  फसल लगाने से पहले खेत की खुदाई करनी पड़ती थी जो एक बहुत ही […]

» Read more

लालची दोस्त – Hindi Story for Kids

सुरेश और महेश लंगोटिया दोस्त थे। मतलब, जब से होश संभाला और लंगोट पहनना शुरू किया था तभी से उनकी दोस्ती गांव में महशूर हो गयी थी। जब देखो एक दुसरे के साथ ही मिलते थे। अच्छे और बुरे समय में दोनों ने एक दुसरे का हमेशा साथ दिया।  गाँव […]

» Read more

चोर पकड़ा गया

  मुझे आज भी याद है कि उस दिन 26 जनवरी का दिन था, साल याद नहीं आ रहा।  रात को जल्दी सो गया था क्योंकि सुबह ४ बजे उठना था। दोस्तों के साथ 26 जनवरी की परेड देखने का प्रोग्राम हम एक हफ्ते से बना रहे थे। आखिर फैसला ये […]

» Read more

मिठाई चोर 

घर में मेहमान आने वाले थे। सुधा सुबह से ही तैयारी में जुटी थी। कभी किचन में खाना बनाती तो कभी घर की साफ़-सफाई में लग जाती।  उनके पति दिनेश बाजार से खूब सारी मिठाई ले आये थे। मिठाईओं को कमरे में संभाल कर रखने के बाद उन्होंने अपने दोनों बच्चों, […]

» Read more

पिताश्री के अनमोल वचन

दुनिया भर में चलते वित्तीय संकट के समय बहुत सी कम्पनिओं को अपना घाटा कम करने के लिए कर्मचारिओं की छटनी करनी पड़ी। निकाले गए कर्मचारी भी दुविधा में पड़ गए कि अब करें तो क्या, क्योंकि इन दिनों नौकरीओं का भी अकाल पड़ जाता है। अच्छी नौकरी मिलती नहीं और जो मिलती है […]

» Read more

पैसे की अहमियत

सूरजभान के पिता की मृत्यु के बाद उनकी सारी धन दौलत और हवेली का वह अकेला वारिस था। पिता की मौत की खबर सुन न जाने कितने लोगों ने आकर उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि दी, सूरजभान के दुःख के समय में उसका साथ दिया।  पिता द्वारा छोड़ी संपत्ति का हिसाब लगाया […]

» Read more

कौन सी सेठानी-Hindi Story for Kids

अपने को गांव का सबसे अमीर आदमी समझने लगा था सेठ सुरेश चंद। जब देखो अपनी दौलत का दिखावा करना उसका शोक हो गया था।  कोई उसे मिलने आता तो उसे बैठाने से पहले बता देता ” यह सोफे मैंने लन्दन से मंगवाया है।” चाय पिलाते हुए बोल देता ” यह […]

» Read more
1 2 3 7