ईमानदारी की जीत-Kid Story in Hindi

  ” सोनू, उठ जा। स्कूल में देरी से पहुंचा तो मास्टरजी से डांट खानी पड़ेगी। ” डांट का नाम सुनते हो सोनू ने फ़ौरन बिस्तर छोड़ दिया और स्कूल जाने के तैयारी में लग गया। उधर माँ ने गरमा गर्म परांठा और दूध उसके आगे रख दिया, जिसे उसने किताबें सँभालते हुए […]

» Read more

गहनों का खेल

अपनी मेहनत, ईमानदारी और लगन से  लाला रौनक मल ने खूब ख्याति और धन-दौलत एकत्रित कर ली। सुख संपन्न परिवार में दो बेटे, दो बहुऐं और पांच पोते-पोती रहते थे। बेटे और बहुऐं लाला जी और उनकी पत्नी सुनंदा की बहुत सेवा करते और ध्यान रखते थे।  एक दिन अचानक लाला जी […]

» Read more

ईमानदार का जमानती कौन

राजस्थान के एक छोटे से गाँव में राम सहाय अपने परिवार सहित रहता था। एक बेटा घनश्याम, 2 बेटियां और पत्नी के इलावा उनके परिवार में और कोई नहीं था।  बाप बेटा दिन रात अपने खेत में मेहनत करके फसल उगाते और पक जाने पर उसे मंडी में लेजाकर बेच देते। […]

» Read more

लाटरी का जादू

   गुप्ता जी रिटायर क्या हुए, उनकी तो जैसे जिंदगी ही उलट-पुलट हो गयी।  एक प्राइवेट कंपनी में केशियर के पद पर लगभग 35 साल काम किया लेकिन सेहत ख़राब रहने की वजह से नौकरी छोड़नी पड़ी। जो महीने की बंधी हुई पगार आती थी वह बंद हो गयी। प्रोविडेंट फण्ड […]

» Read more

अंधेर नगरी – चौपट राजा 

यह उस समय की बात है जब राजा का कहा हर शब्द न्याय होता था।  एक राज्य था जो मूर्खता के साथ-साथ मंद बुद्धि के लिए प्रसिद्ध था। इस वजह से प्रजा के साथ उसके अपने मंत्री तक उसके सामने कांपते थे। न जाने कब किसी मंत्री से कोई गलती हो जाए और राजा उसे […]

» Read more

गाँव वालो ने कैसे सबक सिखाया

नेक राम और उसकी पत्नी रुक्मणि एक छोटे से गांव में रहते थे। अपने खेत में अनाज की फसल लगाते और जब फसल पक जाती तो उसे मंडी में बेच कर अपना पालन पोषण करते थे।  फसल लगाने से पहले खेत की खुदाई करनी पड़ती थी जो एक बहुत ही […]

» Read more

दूर के ढोल सुहावने

राघव और वेद दोनों सगे भाई थे। एक ही माता-पिता की संतान होने के बावजूद दोनों के व्यवहार और चाल-चलन में जमीन आसमान सा अंतर था।    वेद जहाँ पढाई-लिखाई में हमेशा आगे रहता था वहीं राघव को तो जैसे किताबों से नफरत सी थी। वेद न सिर्फ अपने माता-पिता की […]

» Read more

लालची दोस्त – Hindi Story for Kids

सुरेश और महेश लंगोटिया दोस्त थे। मतलब, जब से होश संभाला और लंगोट पहनना शुरू किया था तभी से उनकी दोस्ती गांव में महशूर हो गयी थी। जब देखो एक दुसरे के साथ ही मिलते थे। अच्छे और बुरे समय में दोनों ने एक दुसरे का हमेशा साथ दिया।  गाँव […]

» Read more

मिठाई चोर 

घर में मेहमान आने वाले थे। सुधा सुबह से ही तैयारी में जुटी थी। कभी किचन में खाना बनाती तो कभी घर की साफ़-सफाई में लग जाती।  उनके पति दिनेश बाजार से खूब सारी मिठाई ले आये थे। मिठाईओं को कमरे में संभाल कर रखने के बाद उन्होंने अपने दोनों बच्चों, […]

» Read more

पैसे की अहमियत

सूरजभान के पिता की मृत्यु के बाद उनकी सारी धन दौलत और हवेली का वह अकेला वारिस था। पिता की मौत की खबर सुन न जाने कितने लोगों ने आकर उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि दी, सूरजभान के दुःख के समय में उसका साथ दिया।  पिता द्वारा छोड़ी संपत्ति का हिसाब लगाया […]

» Read more
1 2 3 8