गंदी दीवार – अच्छी आदतें-Good Habits

गंदी दीवार – Dirty Wall

drawing-child-1583340_640

 

मीना आज उदास थी क्योंकि उसकी सहेली टीना अभी तक नहीं आयी थी। अरे वाह! तभी घंटी बजी और मीना दौड़ती हुई दरवाजा खोलने पहुँच गयी। दरवाजा खुलते ही टीना सामने खड़ी मुस्करा रही थी। फिर क्या था, टीना को देख मीना का चेहरा खुशी से खिल उठा। मीना उसका हाथ पकड़ कर अपने कमरे में ले आयी।
 
” क्या तुम्हे चित्र बनाना आता है ” मीना ने पूछा।
” हाँ, मैं घोड़ा और खरगोश बना सकती हुँ ” टीना बोली।
” क्या तुम मुझे यह बनाना सिखाओगी ?” मीना ने पूछा।
” हाँ, तुम कलर और कागज निकालो ” टीना ने कहा।
 
फिर क्या था, मीना जल्दी से अलमारी से कागज और कलर ले आयी।  टीना ने बहुत ही जल्दी मीना को भी घोड़ा और खरगोश बनाना सिखा दिया। मीना ख़ुशी से नाचने लगी।
 
थोड़ी देर बाद टीना अपने घर चली गयी।  अब मीना ने सोचा कि मैं दोबारा से घोड़ा और खरगोश बनाती हुँ।  लेकिन जब वह अलमारी से कागज लेने गयी तो देखा कि कागज तो खतम हो गया था पर कलर पड़े थे।
 
मीना ने सिर्फ कलर निकाले और कागज की जगह दीवार पर चित्र बनाना शुरु कर दिया।  दीवार पर चित्र तो खूबसूरत दिख रहा था और उसे देख मीना खुशी से चिल्लाने लगी।  उस शोर को सुन मीना की माँ कमरे में दौड़ी आयी। मीना ने उन्हें अपने बनाए चित्र को दिखाया।
 
दीवार पर बने चित्र को देख माँ ने मीना को समझाया कि चित्र सिर्फ कागज पर बनाते है।  दीवार और दरवाजों पर चित्र बनाने या उन पर कुछ लिखने से दीवार और दरवाजे गंदे दिखते हैं।
 
मीना समझ गयी और अपनी माँ से बोली ” आज के बाद लिखना या चित्र मैं सिर्फ कागज पर ही करुँगी “।

Also Read:

 


Your comments encourage us

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.