प्यासा कौआ – Moral story

प्यासा कौआ-THIRSTY CROW

crow-1261545_1280

ठंडी ठंडी हवा और चारों तरफ खुला आसमान देख कर एक कौआ अपने पंख फैला कर उड़ने लगा और मौज मस्ती करते हुए बहुत दूर निकल गया।  

काफी देर तक उड़ने के बाद वह थकने लगा और उसे प्यास भी लग गयी।

 

सोचा नीचे जा कर पानी पी लेता हूँ फिर दुबारा आसमान में चला जाऊँगा। नीचे पहुँच कर चारों तरफ देखा मगर उसे पानी कहीं भी दिखाई नहीं दिया। प्यासा कौआ निराश हो इधर उधर भटकने लगा। तभी उसकी नज़र एक बर्तन पर गई। वह भागा भागा उसके पास पहुँचा। बर्तन में पानी तो था लेकिन बहुत ही कम।  

अब बेचारा कौआ सोचने लगा, ” अरे! मैं पानी कैसे पियूँ । मेरी चोंच तो नीचे तक जाएगी ही नहीं “। 

 

तभी उसे एक उपाय सूझा, क्यों ना पानी को ऊपर लाया जाए । उसने इधर उधर देखा। आसपास बहुत से कंकड़ थे। वह एक कंकड़ उठाता और पानी में डाल देता। ऐसे करते करते देखा कि पानी ऊपर आगया । कौए ने मजे से पानी पिया, अपनी प्यास बुझाई और खुश हो कर आसमान में उड़ गया। 

crow

देखी कौए की चतुराई, कैसे उसने सूझ बूझ से अपनी प्यास बुझाई।


Also Read:

 


Your comments encourage us