Hindi Poem for Kids-बच्चों की होली

आप सब को होली की शुभ कामनाएँ

 
Holi, the festival of colors
बच्चों की होली आयी, खूब सारे रंग लायी
पिचकारी में पानी भर मस्ती छाई
कभी दोस्त, कभी पड़ोसी पर रंगों की झड़ी लगायी
रंग मत डालना कह गए थे भाई
कैसे मानते, आते ही रंगों से उनकी गत बनायी
 
 

मम्मी बोली कुछ खा ले फिर जाना
बाहर होली चालू है, मेरा बनता है जाना
होली के दिन बिना रंगे कैसा लगेगा नहाना
आप कुछ बना लो, लगा रहेगा मेरा आना जाना
 
 

अभी तक पिचकारी लेकर आए नहीं नाना
मुझे है उसमें रंग भर के पप्पू के घर जाना
रंग डालूँगा आज, नहीं चलेगा कोई बहाना
जल्दी आओ नाना, मुझे है पप्पू के घर जाना

Also Read:

 


Your comments encourage us

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.