हिंदी मुहावरे – Hindi Muhavare – प

“प” से शुरु होने वाले हिंदी मुहावरे
Hindi Muhavare (Proverbs) starting with “प”

 

पेट में चूहे कूदना – बहुत भूख लगी होना –
सुबह नाश्ता नहीं किया तो अब पेट में चूहे कूद रहे हैं। 
पगड़ी उछालना – बेइजत्ती करना –
बेटों के जेल जाते ही बाप की पगड़ी उछल गयी। 
पस्त होना – थक जाना –
सारा दिन इधर-उधर भागते रहने से शाम तक में पस्त हो गया। 
पहाड़ टूटना – आकस्मिक कष्ट होना –
घर के मुखिया की मौत से परिवार पर तो मानो  पहाड़ ही टूट पड़ा था। 
पत्थर की लकीर होना – अटल इरादा होना –
पुराने जमाने में राजा के कहे शब्द जनता के लिए पत्थर की लकीर ही होते थे। 
पापड़ बेलना – कड़ी मेहनत करना  –
पढाई पूरी करने के बाद नौकरी के लिए सबको खूब पापड़ बेलने पड़ते हैं। 
पेट में दाढ़ी होना – बचपन से ही होशियार होना –
कुछ बच्चों की कला देख लगता है कि इनके पेट में दाढ़ी है। 
पानी फिरना – सब चौपट हो जाना –
बारिश और अंधड़ ने तो शादी के सारे इंतज़ाम पर पानी फेर दिया। 
पीठ दिखाना – युद्ध से भाग जाना –
देश पर मर मिटने वाले सैनिक कभी युद्ध में पीठ नहीं दिखाते। 
पीठ ठोकना – शाबाशी देना –
रेस में फर्स्ट आने पर घर वालों ने मेरी पीट ठोकी। 
पाँव उखड़ जाना – सामना न कर पाना –
आँसू गैस छोड़े जाने पर आंदोलनकारियों के पाँव उखड़ गए। 
पेट में बात न पचना – सुनी बात को गुप्त न रख पाना –
अपनी पारिवारिक बातें किसी से न करो क्योंकि अक्सर लोगों के पेट में बात नहीं पचती। 
पानी-पानी होना – बहुत शर्मिंदा होना –
सारे स्कूल के छात्रों के सामने मुझे डाँट पड़ी तो मैं पानी-पानी हो गया। 
पैरों तले जमीन खिसकना – होश उड़ जाना –
पैसों से भरा बैग चोरी हो गया तो मेरे पैरों तले जमीन खिसक गयी। 
पौ बारह होना – मौज होना –
नौकरी मिलते ही राहुल की पौ बारह हो गयी। 

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>> Go back to Index of Muhavare >>>>>>>>

 

Also Read:


Your comments encourage us