हिंदी मुहावरे – Hindi Muhavare – घ

“घ” से शुरु होने वाले हिंदी मुहावरे
Hindi Muhavare (Proverbs) starting with “घ”

घड़ों पानी पड़ना – बहुत शर्मिंदा होना –
जब नक़ल करते हुए राजिंदर पकड़ा गया तो उस पर घड़ों पानी पड़ गया।

घाव हरा होना – दुखद घटना याद करना –
सड़क हादसे में भाई की मौत के बाद जब भी में उस सड़क से गुजरता हूँ तो मेरे घाव हरे हो जाते हैं।

घाट घाट का पानी पीना – बहुत अनुभवी होना –
तुम्हारी चतुराई राकेश के सामने नहीं चलेगी, उसने घाट घाट का पानी पी रखा है।

घी के दिए जलाना – ख़ुशी दिखाना –
सैनिक जब लड़ाई से सही सलामत लौटता है तो घर वाले घी के दिए जलाते हैं।

घुटने टेकना – हार मान लेना –
कानून के सामने तो बड़े बड़े गुनेहगार भी घुटने टेक देते हैं।

घाव पर नमक छिड़कना – दुखी को और दुखी करना –
अगर किसी की मदत नहीं कर सकते तो ना करो, पर उसके घाव पर नमक तो ना छिड़को।

घोड़े पर सवार होना –  जल्दी करना  –
भाई, कुछ आराम कर लो, हमेशा घोड़े पर सवार क्यों रहते हो।

घोड़े बेचकर सोना – बेखबर होकर सोना –
कल तुम्हारी परीक्षा है और तुम घोड़े बेच कर सो रहे हो। 

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>> Go back to Index of Muhavare >>>>>>>>

 

Also Read:



Your comments encourage us

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.