आत्मविश्वास – Self Confidence

दोस्तों! आत्मविश्वास कहीं ढूँढ़ने पर बाजार में नहीं मिलेगा। आत्मविश्वास तो आपके अंदर छुपा बैठा है, उसे बस जगाना है। बस ये समझो की एक बार जगा दिया तो आपके जीवन में एक नयी क्रांति ला देगा। 
छोटा सा बच्चा पलंग पर चढ़ने की कोशिश करता है लेकिन नीचे गिर जाता है, मगर बिना डरे या घबराए वो कोशिश करता रहता है और एक दिन पलंग पर चढ़ने में सफल हो जाता है। ये उस बच्चे का आत्मविश्वास ही तो था जो उसने अपने लक्ष्य को हासिल कर लिया। 
जब मैं छोटा था तो मुझे कुत्तों (Dogs) से बहुत डर लगता था। घर के बहार कुत्तों को देख में कई दिनों तक घर से नहीं निकलता था। दोस्तों से मिलना, उनके साथ खेलना सब छूट सा गया था। एक दिन मेरे पिताजी ने मुझे अपने में Confidence रखने की बात समझायी। और अगले दिन ही मैं आत्मविश्वास से भरा हुआ महसूस करने लगा और बाहर निकल मैं दोस्तों के साथ खेलने लगा, हालांकि कुत्ते अभी भी वहाँ मौजूद थे। ये मेरा आत्मविश्वास (Self Confidence) ही था जिसने मेरे दिल से कुत्तों का डर निकाल दिया। 
ये आत्मविश्वास आपको हर मौके पर आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित (Encourage) करता रहेगा। पढाई, नौकरी, बिज़नेस, पारिवारिक हो या सामाजिक सम्बन्ध हर में आत्मविश्वास होगा तो जीत निश्चित है। 
कुछ टिप्स दे रहा हूँ जिन्हे आप अपनी जीवन शैली में शामिल कर अपने में आत्मविश्वास (Self Confidence) पैदा कर सकते हैं। 
सकारात्मक सोच (Positive Thoughts) को अपनी दिनचर्या (Routine) बना लें और नकारात्मक सोच (Negative Thoughts) से हमेशा मीलों दूर रहें। जहाँ तक हो सके सिर्फ सकारात्मक सोच (Positive Thoughts) वाले दोस्तों रिश्तेदारों से मेल जोल बढ़ाए। सकारात्मक सोच (Positive Thoughts) का एक सब से बड़ा फैयदा होगा कि आप मानसिक तनाव (Mental stress) से मुक्त रहेंगे और कभी डिप्रेशन (Depression) के शिकार नहीं होंगे। 
रचनात्मक कार्य (Creative work) में अपने को व्यस्त रखें क्योंकि खाली दिमाग तो शैतान का घर होता है। अब इसका मतलब ये नहीं कि आप दिन भर काम ही करते रहें और अपने जीवन के सुख त्याग दे। दोस्तों रिश्तेदारों से मिलना, माता पिता के पास बैठ दो बातें करना, बीवी या गर्ल फ्रेंड के साथ समय बिताना, बच्चों के साथ खेलना, पडोसी के दुःख दर्द में साथ देना, मन करे तो अकेले बैठ किसी किताब को पढ़ना। ये सब रचनात्मक कार्य (Creative work) के कुछ उधारण हैं। 
समयनिष्ठ – (Punctual) हमेशा समय का धयान रखें। हर जगह कहे वक़्त अनुसार ही पहुँचे, कोई सामान भेजने का वक़्त तय किया है तो उसे समय पर भेज दें। इससे दूसरे इंसान पर आपका अच्छा प्रभाव (Good impression) पड़ता है और वो आपको एक विश्वसनीय (Trustworthy) आदमी समझेगा। 
समय का धयान ना रखने वालों का क्या होता है, मेरी इस कहानी में पढ़े दुनिया नहीं खुद को बदलो – Change Yourself not Others
लक्ष्य बनाएँ – (Set a Goal) हर काम के लिए एक लक्ष्य बना लें और तब तक उसके पीछे लगें रहें जब तक उसे प्राप्त न कर लें। और हाँ, हो सके तो एक समय में एक ही लक्ष्य बनाएँ ताकि आप पूरी तरह से उस पर ध्यान केंद्रित (Concentrate) कर सकें। 
कुछ और टिप्स पढ़े सफलता के टिप्स-Tips for Success in Life
दोस्तों, अपने आत्मविश्वास (Self confidence) को हमेशा बढ़ाते रहें और अपने खुद पर विश्वास करें तो मंजिल पाना और भी आसान हो जायेगा। मेरे दिए टिप्स को अपनी रोजमर्रा की लाइफ (Everyday life) में अपनाएँ और देखें किस तरह आपका आत्मविश्वास चरम सीमा पर पहुंच जाता है। 
आत्मविश्वास – सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के टिप्स जो आपको सफल होने में सहायक होंगे। 

यह उन्नति की ओर आगे ले जाने वाला व्यक्तित्व विकास का लेख आपको कैसा लगा?
कृपया कमेन्ट के माध्यम से अपने ideas शेयर करें। 

यदि आप हिंदी में कोई article, motivational/inspirational story लिखते हैं और हमारी वेबसाइट पर पब्लिश करवाना चाहते हैं तो कृपया उसे Email करें। पसंद आने पर हम उसे आपके नाम सहित प्रकाशित करेंगे। अपना लेख इस ईमेल पर भेजें  hinditeacheronline@gmail.com 

Also Read:


Your comments encourage us